जुलाई, 2011 के लिए पुरालेख

सूखे पत्ते जैसी बातें

Posted in Uncategorized on जुलाई 19, 2011 by paawas

तुम कहो बहती हवाएं रोक दें और ये कहें

रात भर जागा है कोई बाद में आना यहाँ

एक किश्ती बादलों में तैरती सी देख ली

सरहदों ने तेरी आकार छू लिया जैसे हमें

दूर से देर तलक शोर हवा करती रही

दूर से देर तलक घुन्ग्रुओं के गीत सुने

राज़ की बात है ये तुम को बता देते हैं

रात भर जागते तारे हैं तुम को छूने को

तुमने दरवाजे की घंटी तो बजाई होगी

हम ही मसरूफ रहे चुप्पियों को बुनने में

और हँसेंगे हम आने जाने वालों पे

Posted in Uncategorized on जुलाई 19, 2011 by paawas

जो तुम आओ तुम्हें दिखाएँ

नीले पीले लाल जामनी

फूल कई पेड़ों पे लटके

ऊंघ रहे हैं ओढ़ चादरें

नाज़ुक नाज़ुक से सपनों की

भोर में सूरज की किरणों

से जब जागेंगे

तह करके रख देंगे

सपने सभी सुहाने

और हँसेंगे हम आने जाने वालों पे

अभी लुटा दो

Posted in Uncategorized on जुलाई 19, 2011 by paawas

एक एक तस्वीर में तुम कैसी उभरी हो तुम क्या जानो

एक उच्छ्वास हमारा बन जाती हो तुम क्या जानो

                                

                             सूखे मुरझाए फूलों की

                             ताज़ी भीगी भीगी यादें

                             फैला कर आँचल को

                             अपने बुला रही हैं

                             कहती हैं

                             इक ढेर लगा दो

                             सूखी खुशबू सी यादों का

                             इस दौलत को आज लुटा दो

                             अभी लुटा दो

पाखी

Posted in Uncategorized on जुलाई 19, 2011 by paawas

पाखी

नाम तुम्हारा

ओंठों से धीरे से उतरा

जा बैठा खिडकी के ठन्डे कांच के ऊपर

तब उभरा उस कांच पे इक हँसता सा चेहरा

और मुकम्मिल हुई तुम्हारी वोह इक फोटो

उखड़ी उखड़ी बातें

Posted in Uncategorized on जुलाई 5, 2011 by paawas

  मेरी ही तरह तुम भी खामोश से बैठे हों ,
मेरी ही तरह खोया कुछ तुमने ज़रूरी है

                                                     तुम आओ या ना आओ ये इंतज़ार मेरे
                                                     मेरी ही है दौलतें हैं मेरी ही इबादत हैं

                                                     हर मोड पे किस्से हैं हर मोड पे बातें हैं ,
                                                     रुक रुक के इन्हें सुनना रुक रुक के जानना है

                                                     बरसों से मेरे दिल की बस एक ही हसरत है , 
                                                     तुम साथ मेरे चलना तुम साथ साथ रहना

                                                     हम देर तलक खिडकी के पास ही बैठे थे ,
                                                     मौसम तो सभी गुज़रे इक तुम ही नहीं आये

                                                     कुछ और नहीं मुझको ,
                                                     बस इतना ही कहना है , 
                                                     मुश्किल जो कोई आये 
                                                    तुम मुझको बुला लेना

                                                    कुछ देर से बातें कीं ,
                                                    कुछ देर को बातें की ,
                                                    कुछ तुम ने कही अपनी , 
                                                    कुछ हमने कही अपनी 

दर्द खामोश ठहरे रहते हैं

Posted in Uncategorized on जुलाई 4, 2011 by paawas

फूल किसको भरोसा देते हैं
वो महज देखते ही रहते हैं

तेज बारिश हों बहती बहती सी
मोर जंगल में नाचा करते हैं

चाँद चुपचाप जब बरसता है
झील में अक्स बहते रहते हैं

धुंध सड़कें समेत लेती है
दर्द खामोश ठहरे रहते हैं

सोचते हैं तुम्हें कहें जाकर
ऐसे कब अपने रूठा डरते हैं

दिल बसेरा है एक वीरां सा
अपने इसमें कहाँ ठहरते हैं

बाद बरसों के भी कई चेहरे
मोड चुपचाप तकते रहते हैं  

एक आवाज़ ढूँढ़ते रहना

Posted in Uncategorized on जुलाई 4, 2011 by paawas

तेज बारिश में भीगते रहना
ना था सुनना, ना ही कुछ कहना

पास सड़कों के थे खामोश खड़े
उन दरख्तों को देखते रहना

कुछ तो ऐसा है जो नहीं दिखता
उसकी आवाज़ ढूँढ़ते रहना

सिर्फ वीरानियाँ ना दे जाए
दिल  को अपने संभाल के रहना