अक्टूबर, 2009 के लिए पुरालेख

शुभ दीपावली

Posted in Uncategorized on अक्टूबर 10, 2009 by paawas

अब
ज्योत से ज्योत जले
आँगन आँगन
घर द्वार सभी
दमकें उजले उजले;
उत्सव के स्वर
आह्लादित उर में
गूंजें, बह नकलें:
पावन मंगलमय
बेला में
मन के संताप गलें
जब
ज्योत से ज्योत जले।

Advertisements